स्पेशल

खुशखबरी अब नहीं जूझना पड़ेगा जाम से उत्तराखंड का सबसे लंबा फ्लाईओवर शुरू

आज उत्तराखंड के हरिद्वार और राजधानी दून में आम जनता की आवाजाही के लिए दो नव निर्मित फ्लाईओवर आज से खुल गए हैं। हरिद्वार में चंडी चौक फ्लाईओवर की अनोखी सौगात वहां के निवासियों को मिली है तो वहीं दून में भी आज से वाहनों की आवाजाही के लिए प्रदेश का सबसे लंबा फ्लाईओवर खोल दिया गया है। uttarakhand highway

हम बात कर रहे हैं राष्ट्रीय राजमार्ग के नवनिर्मित हरिपुरकलां फ्लाईओवर की जिस पर आज आवाजाही शुरू हो जाएगी। कई लोग इस फ्लाईओवर के खुलने का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। आखिरकार उन लोगों का इंतजार खत्म हुआ अब देहरादून-हरिद्वार- ऋषिकेश मार्ग पर मोतीचूर रेलवे क्रॉसिंग फाटक पर लोगों को जाम से नहीं जूझना पड़ेगा। हाईवे पर बने इस फ्लाईओवर की लंबाई तकरीबन 2 किलोमीटर है और यह प्रदेश में सबसे लंबी दूरी का फ्लाईओवर है। uttarakhand highway

यह फ्लाईओवर अपनी तय सीमा से कुछ देरी से खुला है मगर देर से ही सही मगर आखिरकार हरिपुरकलां फ्लाईओवर का काम पूर्ण होने के बाद आज से आम जनता के लिए यह फ्लाईओवर खोल दिया गया है। इस फ्लाईओवर से गुजरने वाले वाहन देहरादून जिले के प्रवेश द्वार सप्तऋषि चेक पोस्ट से शुरू होकर हरिपुरकलां का मुख्य बाजार और उसके बाद राजाजी टाइगर रिजर्व के प्रवेश द्वार और जंगल क्षेत्र को पार कर राजा जी के मध्य वन में तीन पुलिया तक पहुंचते हैं। uttarakhand highway

एक दिन पहले ही हाईवे प्रशासन की ओर से इस 2 किलोमीटर लंबे फ्लाईओवर का ट्रायल टेस्ट किया गया जो कि सक्सेसफुल हुआ। इस फ्लाईओवर से आने-जाने वाले वाहनों को बड़ी राहत मिलेगी और अब उनको एक क्षेत्र में जाम की समस्या से जूझना नहीं पड़ेगा।

वहीं कांग्रेस की ओर से स्थानीय लोगों के लिए टोल बैरियर शुल्क माफ रखने की मांग की गई है। देहरादून-हरिद्वार हाईवे के लिए लच्छीवाला में बनाया गया यह टोल बैरियर स्थानीय लोगों के लिए फ्री रखने की मांग को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने एनएचआई को ज्ञापन भेजा है। uttarakhand highway

उनका कहना है क्षेत्रीय लोगों ने राजमार्ग बनाने के लिए अपनी जमीनें दी हैं ऐसे में उनका टोल माफ होना चाहिए। कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गौरव चौधरी के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने एसडीएम कार्यालय पहुंचकर अपनी मांग रखी।

गौरव का कहना है कि डोईवाला और उसके आसपास के इलाकों में लोगों को कई बार आना-जाना पड़ता है ऐसे में उनसे बार-बार शुल्क वसूला जाना ठीक नहीं है। उनका कहना है कि डोईवाला क्षेत्र के 20 किलोमीटर के दायरे में आने वाले सभी लोगों के लिए टोल पूरी तरह से माफ होना चाहिए। uttarakhand highway