स्पेशल

अजब गजब मात्र 15 साल के बच्चे ने सीएम योगी को दी थी मारने की धमकी

उत्तर प्रदेश का आगरा. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को डायल 112 की आपातकालीन सेवा के व्हाट्सएप नंबर पर उड़ाने की धमकी देने वाला लड़का पुलिस की गिरफ्त में आ गया है. पुलिस ने 15 साल के एक नाबालिग लड़के को पकड़ा है जो 12वीं कक्षा का छात्र है. धमकी की वजह अभी साफ नहीं है.

लखनऊ के गोल्फ सिटी थाने में दर्ज था मुकदमा

दरअसल, संदेश मिलने के बाद लखनऊ के सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस थाने में अपराधिक धमकी समेत कई धाराओं में मामला दर्ज किया गया था. अपनी निगरानी और साइबर टीमों की मदद से जांच के दौरान पुलिस ने नाबालिग का पता लगा लिया. बकौल पुलिस लड़के को आगरा से लखनऊ लाया गया, जिसे बाद में किशोर न्याय बोर्ड के सामने ले जाया गया. न्याय बोर्ड ने नाबालिक को किशोर गृह भेज दिया है.

लड़के के पास से मिला संदेश भेजने वाला सिम और फोन

पुलिस को बारहवीं कक्षा के छात्र के पास से फोन और सिम कार्ड मिला है जिसका दावा पुलिस ने किया है. पुलिस का दावा है कि, ” इसी फ़ोन से बच्चे ने संदेश भेजा था. हालांकि मोबाइल से मैसेज डिलीट कर दिया गया है.” अब पुलिस ने डाटा रिकवरी के लिए मोबाइल और सिम को साइबर फॉरेंसिक टीम के पास जांच के लिए भेजा है. बकौल पुलिस बच्चे ने पूछताछ में मैसेज भेजने की बात को स्वीकार किया है.

नाबालिग ने किया हैरान करने वाला खुलासा

पुलिस के मुताबिक आरोपी ने पूछताछ में बताया कि विद्यालय बंद होने और पुलिस के द्वारा घर से बाहर मैच न खेलने देने से वह नाराज था जिसके कारण उसने मैसेज किया था. नाबालिग के पिता सरकारी प्राथमिक विद्यालय में भदौरा अध्यापक नियुक्त हैं.

पहले भी मिली है धमकियां

ऐसा पहला मौका नहीं है जब सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जान से मारने की धमकी मिली हो. इससे पहले 21 मई को यूपी पुलिस के 112 व्हाट्सएप पर धमकी भेजी गई थी जिसमें लिखा था कि, “सीएम योगी को मैं बम से मारने वाला हूं. वह एक खास समुदाय की जान के दुश्मन हैं.” हालांकि पुलिस ने आरोपी को चंद घंटों में ही गिरफ्तार कर लिया था. गिरफ्तारी के बाद यूपी पुलिस की सोशल मीडिया हेल्पडेस्क को एक और धमकी मिली थी. इस मैसेज में मुंबई से गिरफ्तार किए गए आरोपी को छोड़ने और ऐसा न करने पर गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दी गई थी. उत्तर प्रदेश एटीएस ने इस संबंध में महाराष्ट्र एटीएस से जानकारी साझा की जिसके बाद महाराष्ट्र की एटीएस ने 20 साल के आरोपी को गिरफ्तार किया था.